“अब मैं लौट आया हूँ”

Hindi love shayari

   Love shayari  

 तुमसे दूर चला गया था शायद पर अब मैं लौट आया हूँ

इतने दिन भूल कर रहा था शायद 
पर अब मैं सब साथ लाया हूँ

बीता हर पल दोहरा ना पाऊँगा शायद
पर अब हर पल बहार लाया हूँ

वजह नहीं मिली थी शायद
पर अब बेवजह ही आया हूँ

मैं तुमसे दूर चला गया था शायद
पर अब मैं लौट आया हूँ
अब मैं लौट आया हूँ

पूर्व मेँ तुमको हर पल रुलाया
पर अब हर पल हंसाने आया हूँ

उन आँखों में आँसू के बदले
कुछ मीठे सपने सजाने आया हूँ

मैं तुमसे दूर चला गया था शायद
पर अब मैं लौट आया हूँ

अब मैं लौट आया हूँ

hindi love shayari girlfriend boyfriend

 

बातों और बेबातों का दौर था शायद
पर अब बातों पर य़की कर पाया हूँ

मेरी बेबसी का अँधेरा रहा शायद
पर अब उजला सवेरा जगा लाया हूँ

उलझनों का सफ़र कठिन हुआ शायद
पर अब हर डोर सुलझा पाया हूँ

मैं तुमसे दूर चला गया था शायद
पर अब मैं लौट आया हूँ
  
  अब मैं लौट आया हूँ

कम मीठा था कड़वा था ज्यादा
अब कण कण में मिठास भर लाया हूँ

शिकायतें हैं मुझसे बहुत पर
अब हर एक शिक़वा मिटाने आया हूँ

मैं तुमसे दूर चला गया था शायद
पर अब मैं लौट आया हूँ

  अब मैं लौट आया हूँ

बहकी-बहकी बातें करता, और 
  अज़ीब से सवाल भी
उन पागल से सवालों का
मैं खुद इकलौता ज़वाब बन कर आया हूँ

मैं तुमसे दूर चला गया था शायद
पर अब मैं लौट आया हूँ

    अब मैं लौट आया हूँ

वो दौर ओर था ये दौर ओर है
वो कुछ ओर था ये कुछ ओर है

अब बातें ओर होंगी मुलाकाते ओर होंगी

कुछ सपने ओर होंगे कुछ अपने ओर होंगे
मैं भी कुछ ओर हूँ ये सबको बताने आया हूँ

मैं तुमसे दूर चला गया था शायद
पर अब मैं लौट आया हूँ

   अब मैं लौट आया हूँ

Love shayari for girlfriend

तुमसे प्यार है ये जानना था तुम्हें शायद
पर अब मैं तुमसे प्यार करने आया हूँ

शर्त प्यार में रखनी पड़े शायद
पर अब रूह तक तुम्हारे लिए लाया हूँ

दुनिया दुःख देगी ताउम्र शायद
पर अब खुद से मैं वादा कर आया हूँ

तुझ संग ज़िन्दगी ज़िन्दगी शायद
पर अब तुझ संग मौत भी लिखा लाया हूँ

मैं तुमसे दूर चला गया था शायद
पर अब मैं लौट आया हूँ……

     अब मैं लौट आया हूँ

फिर एक नई शुरुवात की
  
राह भी बदली गयी 
मुसाफ़िर भी बदला गया

कभी वक़्त ने मुझको सताया 
कभी हालात ने तुमको रुलाया

वो वक़्त भी बदला गया वो हालात भी बदले गए
पर नई शुरुवात में मैं खुद को बदल कर लाया हूँ

मैं तुमसे दूर चला गया था शायद
पर अब मैं लौट आया हूँ

   अब मैं लौट आया हूँ

       “एकांत”

Leave a Reply

Close
Close