Love ShayariLove shayari hindiLove shayari in hindiPoemRomanticSad ShayariShayari

“काश”

ए काश वो किसी दिन तन्हाइयों में तो आये
कब तलक उन्हें ख़्वाबों में ही ढूंढा जाये
कह दो इश्क़ ग़र ना हो जो तुमको हमसे
तो इस तरहा गलफत में ना छोड़ के जाये
कत्ल ना कर दे हमको उसकी मासूम अदाएं
ए काश वो किसी दिन तन्हाइयों में तो आये
शिकायतें तो हजार लिए बैठे है तेरी जालिम
तू बेदर्द कभी ख़्वाब्बों की तन्हाई में तो आये
अब आ भी जाओ मेरे आँखों के रु-ब-रु तुम
कब तलक तुम्हें ख़्वाबों में ही ढूंढा जाये
ए काश वो किसी दिन तन्हाइयों में तो आये
ए काश वो किसी दिन तन्हाइयों ………..

रोहित डोबरियाल
“मल्हार”

Tags

Malhar

मेरा नाम रोहित डोबरियाल है मेरी विशेष रुचि संगीत एवं लेखन में है। में शास्त्रीय संगीत में सितार वादक हूँ और सितार वादन और नयी कविताओं की रचना करना मुझे अच्छा लगता है इसी लिए मैने ख़ुद जरूरत महसूस करते हुए एक ऐसा साझा मंच का निर्माण किया जहां नए उभरते हुए साहित्यकार,लेखक अपने विचारों को कविताओं के माध्यम व्यक्त कर सकें

Related Articles

3 Comments

Leave a Reply

Close
Close