mirza ghalib shayari in HIndi | urdu | Top Shayari | ghazals

Mirza Ghalib Shayari in Hindi 2 lines

दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है
आख़िर इस दर्द की दवा क्या हैghalib shayari in hindi

 

हम को उन से वफ़ा की है उम्मीद
जो नहीं जानते वफ़ा क्या है

ghalib shayari in hindi

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

इश्क से तबियत ने जीस्त का मजा पाया,
दर्द की दवा पाई दर्द बे-दवा पाया।

ghalib shayri in hindi

 

बुलबुल के कारोबार पे हैं ख़ंदा-हा-ए-गुल
कहते हैं जिस को इश्क़ ख़लल है दिमाग़ का

ghalib shayari in hindi

 

‘ग़ालिब’ बुरा न मान जो वाइज़* बुरा कहे
ऐसा भी कोई है कि सब अच्छा कहें जिसे

mirza ghalib shayari in hindi

 

जिस हाए उस चार गिरह कपड़े की क़िस्मत ‘ग़ालिब’
की क़िस्मत में हो आशिक़ का गिरेबाँ होना

ghalib shayari

 

हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे
कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और

ghalib shayari in hindi

mirza ghalib shayari in HIndi | urdu

 

दिल दिया जान के क्यों उसको “मल्हार”
ग़लती की के जो बेवफ़ा को दीवाना समझा

ghalib shayari in hindi

 

खुदा के वास्ते पर्दा न रुख्सार से उठा ज़ालिम
कहीं ऐसा न हो जहाँ भी वही काफिर सनम निकले..

ghalib shayari in hindi

 

फिर उसी बेवफा पे मरते हैं
फिर वही ज़िन्दगी हमारी है
बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब’
कुछ तो है जिस की पर्दादारी है

mirza ghalib shayari in hindi

 

यह जो हम हिज्र में दीवार-ओ -दर को देखते हैं
कभी सबा को कभी नामाबर को देखते हैं

ghalib shayari in hindi

 

वो आये घर में हमारे , खुदा की कुदरत है
कभी हम उन को कभी अपने घर को देखते हैं

mirza ghalib shayari in hindi

 

नज़र लगे न कहीं उसके दस्त-ओ -बाज़ू को
ये लोग क्यों मेरे ज़ख्म-ऐ -जिगर को देखते हैं

mirza ghalib shayari in hindi

 

तेरे जवाहीर-ऐ- तरफ ऐ-कुलाह को क्या देखें
हम ओज-ऐ-ताला- ऐ-लाल-ओ-गुहार को देखते हैं
mirza ghalib love shayari in hindi

Also Read: love shayari in hindi

mirza ghalib shayari

ghalib shayari in hindi Ishq Par Zor Nahi Hai Yeh Woh Aatish ‘Ghalib’;
Ki Lagaye Na Lage Aur Bujhaye Na Bujhe!

 

 

mirza ghalib shayari in hindiJaate Hue Kehte Ho Qayamat Ko Milenge;
Kya Khoob Qayamat Ka Hai Goya Koi Din Aur!

 

mirza ghalib shayari in hindiMohabbat Mein Nahi Hai Farq Jeene Aur Marne Ka;
Usi Ko Dekh Kar Jeete Hain Jis Kafir Pe Dam Nikle!

 

 

ghalib shayari in hindi Daag-e-Dil Se Bhi Roshni Na Mili;
Ye Diya Bhi Jala Ke Dekh Liya!

 

mirza ghalib shayariDil Se Mitna Tiri Agusht-e-Hinaai Ka Khyaal;
Ho Geya Gosht Se Naakhun Ka Judaa Ho Jaana!

 

 

mirza ghalib shayariEtibar-e-Ishq Kee Khana-Kharaabi Dekhna;
Gair Ne Kee Aah Lekin Vo Khafaa Mujh Par Hue!

 

 

mirza ghalib shayari in english fountMohabbat Mein Nahi Hai Farq Jeene Aur Marne Ka;
Usi Ko Dekh Kar Jeete Hain Jis Kafir Pe Dum Nikle!

 

 

ghalib shayari in english

Aata Hai Kaun Kaun Tere Gham Ko Baantne
Ghalib Tu Apni Maut Ki Afwaah Udaa Ke Dekh

 

ghalib shayari in englishMain Aur Bazm-E-Mai Se Yun Tishna-Kaam Aaun
Gar Maine Kee Thi Tauba Saaqi Ko Kyaa Hua Tha

 

 

ghalib shayari in hindi

Giri Is Tabassum Ki Bijali Ajal Par
Andhere Ka Ho Noor Mein Kya Guzara

 

 

ghalib shayari Justjoo Jis Gul Ki Tarpati Thi Ai Bulbul Mujhe
Khoobi-e-Qismat Se Aakhir Mil Gaya Woh Gul Mujhe

 

 

ghalib shayariParwana Tujhse Karta Hai Ai Shama Pyaar Kyon
Ye Jaane Beqaraar Hai Tujh Par Nisar Kyon

 

 

ghalib shayari
Qismat Buri Sahi Par Tabiyat Buri Nahin
Hai Shukr Ki Jagah Ki Shikayat Nahin Mujhe

 

 

ghalib shayari
Zulm Hai Gar Na Do Sakun Ki Daad
Qahar Hai Gar Karona Mujhko Pyaar

 

 

mirza ghalib shayari in english fount
Hoga Koi Aisa Bhi Ki Ghalib Ko Na Jaane
Shayar Toh Wah Achchha Hai Par Badnaam Bahut Hai

 

Also Read: Good Morning Shayari in Hindi

mirza ghalib shayari in urdu

 

Hain Aur Bhi Duniya Mein Sukhan-War Bahot Achhe,
Kehte Hain Ki Ghalib Ka Hai Andaaz-e-Bayan Aur.

ghalib shayri
हैं और भी दुनिया में सुखन-वर बहुत अच्छे,
कहते हैं कि ग़ालिब का है अंदाज़-ए-बयाँ और।

*************

Unke Dekhe Se Jo Aa Jaati Hai Chehre Par Raunaq,
Woh Samajhte Hain Ke Beemaar Ka Haal Achcha Hai.
ghalib shayari in hindi
उनके देखने से जो आ जाती है चेहरे पर रौनक,
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है।

*************

Be-Khudi Be-Sabab Nahin Ghalib,
Kuchh Toh Hai Jis Ki Parda-Daari Hai.

ghalib shayari in hindi -englishबे-खुदी बे-सबब नहीं ग़ालिब,
कुछ तो है जिस की परदा-दारी है।

*************
Yeh Na Thi Humari Kismat Ke Visaal-e-Yaar Hota,
Agar Aur Jeete Rehte, Yehi Intezaar Hota
ghalib shayari in hindi
ये न थी हमारी किस्मत के विसाल-ए-यार होता,
अगर और जीते रहते यही इंतज़ार होता।

*************
Qaasid Ke Aate Aate Khat Ek Aur Likh Rakkhun,
Main Jaanta Hoon Jo Woh Likhenge Jawaab Mein.
ghalib shayari in hindi
कासिद के आते आते ख़त एक और लिख रखूँ,
मैं जानता हूँ जो वो लिखेंगे जवाब में।

*************
Tum Na Aaoge Toh Marne Ki Hai Sau Tadbeerein,
Maut Kuchh Tum Toh Nahi Hai Ki Bula Bhi Na Saku.

mirza ghalib shayari तुम न आओगे तो मरने कि है सौ ताबीरें,
मौत कुछ तुम तो नहीं है कि बुला भी न सकूं।

*************

Rone Se Aur Ishq Mein Be-Baak Ho Gaye,
Dhoye Gaye Hum Itne Ke Bas Paak Ho Gaye.

mirza ghalib shayari
रोने से और इश्क में बे-बाक हो गए,
धोये गए हम इतने कि बस पाक हो गए।

Previous page 1 2 3Next page

Leave a Reply

Close
Close