“तू है मै हूं”

तू है मै हूं और साथ मेरी तन्हाई है क्यूँ कल तू फिर मेरे सपने में आयी है तेरा इस कदर मेरे सपने में आना और आकर फिर इस तरहा से जाना मेरा चैन,सुकूंन सब तेरा ले जाना मेरे सपने में तेरा यूँ आके चले जाना बिन तेरे ना कुछ भी अब अच्छा लगता है … Continue reading “तू है मै हूं”